कोई हिंदू भारत विरोधी नहीं हो सकता, उसे देशभक्त होना ही पड़ेगा : मोहन भागवत

Spread the love

दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने महात्मा गांधी पर लिखी पुस्तक मेकिंग ऑफ ए हिंदू पैट्रियट का विमोचन करते हुए कहा कि कोई हिंदू है तो उसे देशभक्त होना ही पड़ेगा, यह उसके मूल में है।संघ प्रमुख ने कहा कि कोई हिंदू, भारत द्रोही या भारत विरोधी नहीं हो सकता।

राजघाट पर आयोजित एक समारोह में जेके बजाज और एमडी श्रीनिवास द्वारा लिखित पुस्तक को महात्मा गांधी पर बेहद प्रमाणिक शोध बताते हुए मोहन भागवत ने कहा कि इसके लोकार्पण को लेकर बहुत अटकलें लग सकतीं हैं। लेकिन उसकी आवश्यकता नहीं है।

मोहन भागवत ने कहा कि देश भक्ति की प्रवृत्ति हर व्यक्ति में होती है। भारत में व्यक्ति, इस भूमि को अपना मानता है। जमीन की पूजा, माटी की पूजा सब लोग किसी न किसी रूप में करते हैं। परंतु गांधी जी ने कहा- मेरी देशभक्ति मेरे धर्म से निकलती है। मोहन भागवत ने कहा, हिंदू है तो देशभक्त होना ही पड़ेगा उसको। सोई हुई देशभक्ति को जगाना पड़ता है। कोई हिंदू भारत विरोधी नहीं है।

सरसंघचालक ने कहा कि महात्मा गांधी कहते थे कि स्वराज की मांग करने वाले बहुत लोग है। स्वराज क्या है जब तक आप स्वधर्म को नहीं समझते तब तक आप स्वधर्म नहीं समझते। भागवत ने सभी के विचारों के सम्मान पर जोर देते हुए कहा, असमहित का मतलब अलगाववाद नहीं है। हमें मिलजुलकर रहना है। हम एक धरती, माता के पुत्र बनकर रह सकते हैं।

–आईएएनएस

हल्ला बोल को यूपी के सभी जिलों में संवाददाताओं की जरूरत है। ऐसे इच्छुक व्यक्ति जो निशुल्क रूप से हमसे जुड़ना चाहते हैं वो व्हाट्सएप नंबर 9451647342 पर हल्ला बोल टाइप कर संदेश भेज सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *