दिल्ली बॉर्डर पर चौथे दिन भी किसानों का जमावड़ा, सरकार बातचीत को तैयार

Spread the love

नई दिल्ली: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ आज चौथे दिन किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है. दिल्ली में विरोध प्रदर्शन की मांग पर अड़े किसानों को बुराड़ी स्थित निरंकारी ग्राउंड में प्रदर्शन की इजाजत दे दी गई लेकिन किसान अब भी सिंघु बॉर्डर पर अड़े हुए हैं. उनकी मांग है कि उन्हें रामलीला मैदान या जंतर मंतर पर प्रदर्शन की इजाजत दी जाए. कल शाम दिल्ली-हरियाणा सिंघू बॉर्डर पर किसानों की बैठक हुई और बैठक के बाद भारतीय किसान यूनियन पंजाब के जनरल सेक्रेट्री हरिंदर सिंह ने कहा कि हमने फैसला किया है कि हम यहां से कहीं नहीं जाएंगे और अपना विरोध प्रदर्शन यहीं करेंगे.

किसानों के प्रदर्शन में महिलाएं भी शामिल हैं. वह नारे लगाकर और गाना गाकर कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रही हैं. टिकरी बॉर्डर पर किसान गाड़ियों में भरकर राशन लाए हैं. एक किसान ने कहा, अनाज खत्म हो जाएगा तो यहां सड़क खोदकर खेती शुरू कर देंगे.

गृह मंत्री अमित शाह ने की अपील
चार दिन से दिल्ली बॉर्डर पर डटे प्रदर्शनकारी किसानों से गृह मंत्री अमित शाह ने सड़क छोड़कर तय जगह पर प्रदर्शन करने की अपील की है. अमित शाह ने कहा, “किसान भाई अलग-अलग इतनी सर्दी में ट्रैक्टर-ट्रॉली के साथ हाइवे पर बैठे हैं, जो पीड़ादायक है. दिल्ली के मैदान में आएं, वहां बातचीत होगी. यहां आपको सुरक्षा और सुविधाएं मिलेंगी. अगर किसान दिल्ली में तय जगह पर आएंगे तो 3 दिसंबर के पहले भी बातचीत संभव है. आज दिन में 11 बजे और दोपहर 2 बजे किसानों के सभी संगठनों की बैठक होगी. उसके बाद अमित शाह के प्रस्ताव पर फैसला होगा. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने अमित शाह के प्रस्ताव का स्वागत किया. उन्होंने कहा कि किसानों से बातचीत के लिए 3 दिसंबर तक का इंतजार क्यों, तुरंत बात करे केंद्र.

बहकावे में न आएं
उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मोर्य ने किसानों से अपील की है कि वह किसी राजनीतिक दल के बहकावे में न आएं और अपना आंदोलन खत्म कर दें. केंद्र और उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकारें उनके हित में हर संभव कदम उठा रही हैं.

हल्ला बोल को यूपी के सभी जिलों में संवाददाताओं की जरूरत है। ऐसे इच्छुक व्यक्ति जो निशुल्क रूप से हमसे जुड़ना चाहते हैं वो व्हाट्सएप नंबर 9451647342 पर हल्ला बोल टाइप कर संदेश भेज सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *