निवर्तमान चेयरमैन सोना सिहं को ले डूबा ओवर कौन्फीडैंस। हाथी की सवारी छोड़कर साइकिल पर सवार होना राश नहीं आया गढ़ नगर की जनता को

 
सोना सिहं

निवर्तमान चेयरमैन सोना सिहं को ले डूबा ओवर कौन्फीडैंस।
हाथी की सवारी छोड़कर साइकिल पर सवार होना राश नहीं आया गढ़ नगर की जनता को

हापुड़ (दुर्वेश तोमर)

गढ़मुक्तेश्वर के निवर्तमान चेयरमैन सोना सिंह को आखिर क्यों देखना पड़ा हार का मुंह?दो बार गढ़मुक्तेश्वर नगरपालिका के चेयरमैन रहे सोना सिंह से आखिर जनता क्यों हुई? नाराज बता दें कि सोना सिंह ने गढ़ नगर में कितना विकास किया या नहीं किया विकास करने को या ना करने को लेकर जनता नाराज हुई या चेयरमैन सोना सिंह के पार्टी से पाला बदलने पर। इस पर  अनेक तरह के कयास भी लगाए जा रहे हैं और आज निकाय चुनाव में यह साबित हो गया कि जनता जनार्दन ही होती है ।और जनता एक नेता  के लिए एक आईना भी होती है और आज वह आइना सोना सिंह को गढमुक्तेश्वर नगर की जनता ने  दिखा दिया जिससे सोना सिंह को हार का मुंह देखना पड़ा।
यह भी बता दें कि कुर्सी के लिए सोना सिंह ने बसपा के हाथी की सवारी छोड़कर सपा की साइकिल पर सवार हुए थे और सनद रहे कि जिस दिन सपा में जाने के बाद प्रेस वार्ता और अपने अपनों को मिलन समारोह किया था और सपा के जिलाध्यक्ष द्वारा यह घोषणा गढ़मुक्तेश्वर नगर में आम समाज के बीच की थी उसी दिन गढ़मुक्तेश्वर के दलित समाज ने सोना सिंह के पुतले को फूंक कर उनके लिए उसी दिन आईना दिखा दिया था लेकिन सोना सिंह ओवरकॉन्फिडेंस के चलते यह सब भूल गए कि अपने अपनों ने ही उनसे मुंह मोड़ लिया यह बता दें कि सोना सिंह ने मुस्लिम और दलित वर्ग को एक मानते हुए अपनी जीत का ओवरकॉन्फिडेंस मन में बना लिया था लेकिन जनता जनार्दन होती है और कहीं ना कहीं अपने अपनों ने ही उन्हें आज आइना दिखा कर हार का मुंह दिखा दिया इसीलिए कहते हैं कि जनता जनार्दन होती है